Click to Download this video!

चूत अब भी टाइट है

Chut ab bhi tight hai:

hindi sex stories, antarvasna मेरे कॉलेज का यह आखिरी बर्ष था, मैंने जब इस कॉलेज में एडमिशन लिया था तो मैं बहुत खुश था लेकिन और मेरा कॉलेज खत्म होने वाला है तो मुझे कहीं ना कहीं इस चीज का बहुत ही दुख है लेकिन इस बात की खुशी भी है कि मैं इस वर्ष अपने पिताजी का बिजनेस जॉइन करने वाला हूं, मेरे पिताजी का कपड़ों का काफी बड़ा बिजनेस है घर में मैं ही एकलौता हूं इसलिए मुझे ही उनका काम संभालना है। हमारे कॉलेज में एक संहिता मैडम है जो कि हमारी प्रोफेसर हैं जब मैंने शुरुआत में एडमिशन लिया था तो उस वक्त वह बड़ी ही खुश रहती थी उनके चेहरे पर एक अलग ही मुस्कुराहट रहती थी लेकिन कुछ समय से वह बहुत ज्यादा दुखी और टेंशन में है मुझे पता नहीं था कि आखिरकार वह इतना टेंशन में क्यों है, मैंने अपने क्लास के दोस्तों से भी पूछा तो वह कहने लगे हमें भी इस बात का पता नहीं है लेकिन कुछ समय से मैडम का नेचर कुछ ज्यादा ही चेंज हो चुका है और उनके व्यवहार में बहुत ज्यादा बदलाव आ गया है।

मैंने इस बारे में सरिता मैडम से बात करने की सोची और एक दिन मैंने उनसे इस बारे में बात की, मैंने उन्हें कहा मैडम आजकल आप बहुत ज्यादा दुखी रहती हैं आपके चेहरे पर पहले वाली मुस्कुराहट नहीं है, वह कहने लगी देखो प्रशांत ऐसा तो कुछ भी नहीं है, मैंने उन्हें कहा कि मैडम जरूर कोई ना कोई बात है जो आप मुझे बता नहीं रहे, वह कहने लगी नहीं ऐसी कोई बात नहीं है। उन्होंने मुझे कुछ नहीं बताया और मैंने भी उसके बाद उनसे इस बारे में ज्यादा बात नहीं की लेकिन मैं अपने घर से अपनी मौसी के घर के लिए निकला ही था तभी रास्ते में मैंने देखा कि सरिता मैडम किसी व्यक्ति के साथ झगड़ा कर रही हैं मैं अपनी कार से नीचे उतरा और जब मैं उनके पास गया तो वह उस व्यक्ति के साथ बहुत झगड़ा कर रही थी और वह व्यक्ति भी उन्हें बहुत बुरा भला कह रहा था मुझे कुछ समझ नहीं आया लेकिन जब वह व्यक्ति वहां से गुस्से में चला गया तो मैंने मैडम की तरफ देखा, मैंने उनसे कहा क्या मैं आपको कॉलेज छोड़ दूं? वह मुझे कहने लगे मैं खुद ही चली जाऊंगी लेकिन मैंने उन्हें कहा कि मैडम मैं आपको छोड़ देता हूं। वह मेरे साथ मेरी कार में बैठ गई उन्होंने मुझसे पूछा प्रशांत क्या तुम आज कॉलेज नहीं आ रहे हो? मैंने उन्हें कहा नहीं मैडम आज मैं कॉलेज नहीं आ रहा हूं क्योंकि मुझे मेरी मौसी के घर जाना है।

कुछ देर तक हम दोनों चुप रहे लेकिन जब मैंने उनसे पूछा कि वह व्यक्ति कौन थे तो सरिता मैडम ने मुझे कहा कि वह मेरे भैया है, मैंने उन्हें कहा मैडम लेकिन वह तो आपके साथ बहुत ही ज्यादा बदतमीजी से बात कर रहे थे, वह मुझे कहने लगे देखो प्रशांत आजकल का जमाना बिल्कुल सही नहीं है मेरे भैया ने मेरे साथ बहुत ही बड़ा धोखा किया और जिसकी वजह से मुझे आज इतनी तकलीफों का सामना करना पड़ रहा है। उस दिन उन्होंने मुझे अपनी सारी बात बता दी और जब मैंने उनकी बात सुनी तो मुझे भी बहुत बुरा लगा उन्होंने मुझे बताया कि उनके पति काफी समय से लापता है और उनका कुछ भी पता नहीं चल रहा, मैंने जब यह बात सुनी तो मैं हैरान रह गया वह मुझे कहने लगी बाकी हमारी जितने भी प्रॉपर्टी थी उस सब पर मेरे भैया ने कब्जा कर लिया है जिस वजह से मैं उनके साथ झगड़ा कर रही थी, उन्होंने मुझे कहीं का भी नहीं छोड़ा और मुझे बर्बाद करके रख दिया है। मैंने सरिता मैडम से कहा मैडम लेकिन आपका व्यक्तित्व तो बहुत ही अच्छा है और भला आपके साथ कोई इतना बुरा क्यों कर सकता है और वह तो आपके खुद के सगे भाई हैं, सरिता मैडम मुझे कहने लगी मेरा तो जैसे लोगों से भरोसा ही उठ चुका है मैं किसी पर भी भरोसा नहीं करती, मैंने उन्हें कहा आपने यह तो बिल्कुल सही कहा यदि किसी व्यक्ति के साथ ऐसा हो जाए तो उसका भरोसा सब पर से उठ जाता है लेकिन हर कोई ऐसा नहीं होता। मैंने मैडम से कहा कि मैडम मैं आपकी मदद कर सकता हूं यदि मैं पापा से इस बारे में कहूं तो शायद पापा आपकी मदद कर दे, सरिता मैडम मुझे कहने लगी देखो प्रशांत तुम अभी छोटे हो तुम्हें शायद इस चीज का पता नहीं है कि कोई भी व्यक्ति इन चक्करों में नहीं पड़ता यदि यह आपस में घर की बात हो तो तब तो सब लोग दूर ही हो जाते हैं। मैंने मैडम से कहा लेकिन हर कोई व्यक्ति ऐसा नहीं होता आप एक बार मुझ पर भरोसा करके देखिए आप मेरे पिता जी से इस बारे में बात कीजिए उनकी काफी अच्छी जान पहचान है और शायद वह आपकी मदद भी कर पाए, वह मुझे कहने लगी चलो मैं इस बारे में सोचती हूं।

मैंने सरिता मैडम से कहा कि मैडम आपकी फैमिली में और कौन-कौन है, वह कहने लगी मेरे दो बच्चे हैं लेकिन मैंने उन्हें पढ़ने के लिए विदेश भेज दिया है मैं नहीं चाहती कि उन पर भी इस चीज का असर पड़े और इसी वजह से मैंने उन्हें विदेश पढ़ने के लिए भेज दिया है, मैंने उन्हें कॉलेज छोड़ दिया और जब मैं अपनी मौसी के घर के लिए जा रहा था तो मैं दिमाग में सिर्फ यही बात सोच रहा था कि सरिता मैडम के ऊपर इतने दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है लेकिन उसके बावजूद भी उन्होंने कभी किसी से यह बात नहीं कही लेकिन आज जब उन्होंने मुझे यह बात बताई तो मुझे बहुत ही बुरा लगा मैंने उनकी मदद करने की सोच ली थी और मैंने जब इस बारे में अपने पिताजी से बात की तो वह कहने लगे बेटा मुझसे जितना बन पड़ेगा मैं उनकी उतनी मदद करूंगा। मेरे पिताजी की अच्छी जान पहचान है इस वजह से उन्होंने सरिता मैडम की मदद की और उनकी जो भी प्रॉपर्टी थी वह उन्होंने सरिता मैडम को वापस दिलवा दी, सरिता मैडम एक दिन हमारे घर पर आई और कहने लगे कि तुम्हारे पिताजी का मुझ पर एहसान है।

अब वह अक्सर हमसे मिलने के लिए हमारे घर पर आ जाया करती, वह हमेशा ही मुझे कहते कि तुम्हारे पिताजी ने मुझ पर बहुत एहसान किया है, मैं एक बार उनके बच्चों से भी मिला था उनके बच्चों की उम्र भी मेरी उम्र के लगभग ही थी और वह भी हम से मिलने के लिए हमारे घर पर आए थे, सरिता मैडम को जब भी कोई काम होता तो वह मुझे फोन कर दिया करती। मेरा कॉलेज भी पूरा हो चुका था अब मैं अपने पिताजी की दुकान संभालने लगा मैं धीरे-धीरे काम भी सीखने लगा था। मैं अब काम की बारीकियां अच्छे से सीख चुका हूं इस वजह से मेरे पिताजी भी मेरे काम से बहुत खुश थे और कहने लगे कि बेटा तुमने तो मेरी सारी टेंशन ही खत्म कर दी मैं तो सोचता था कि शायद तुम यह काम नहीं कर पाओगे लेकिन तुम तो मुझसे भी अच्छे से यह सब काम कर पा रहे हो। वह बहुत ही ज्यादा खुश थे मेरा जीवन भी अब अच्छे से चल रहा था मेरे पिताजी का भरोसा मुझ पर बहुत ज्यादा था। मैं काफी समय से कहीं घूमने भी नहीं गया था मैंने अपने दोस्तों के साथ घूमने का प्लान बना लिया मैं उनके साथ घूमने के लिए मनाली चला गया, मैं कुछ दिनों तक मनाली ही रुका और जब मैं मनाली से वापस लौटा तो दोबारा से अपने काम को देखने लगा। मैं अपने काम पर व्यस्त हो चुका था काफी दिनों से मेरी मुलाकात सरिता मैडम से भी नहीं हुई थी। एक दिन उनका फोन मुझे आया वह कहने लगी मुझे तुमसे कुछ काम था। मैंने उन्हें कहा मैडम मैं कुछ देर बाद आपके घर आता हूं मैंने अपनी दुकान मे लडके को बैठाया और उसे कहा तुम दुकान का ध्यान रखाना मैं बस कुछ देर बाद आता हूं।

मैं यह कह कर सरिता मैडम के घर चला गया मैं जब मैडम के घर पहुंचा तो वहां पर उनके भैया आए हुए थे उनके साथ उनकी बड़ी गरमा गर्मी हो रही थी। मैंने जब उन्हें समझाया तो वह लोग वहां से चले गए इस बात से सरिता मैडम बहुत दुखी थी वह मुझे कहने लगी प्रशांत मेरी वजह से तुम्हें परेशानी हुई। वह मेरे साथ बैठ गई हम दोनों सोफे पर बैठ कर बात कर रहे थे वह मुझे कहने लगी मेरी वजह से तुम्हें बहुत परेशानी हुई। मैंने उन्हें कहा नहीं ऐसी कोई बात नहीं है यदि आपको मेरी आवश्यकता थी तो आप मुझे पहले ही बता देती। वह कहने लगी मुझे तो बहुत अकेला महसूस होता है मुझे अपने पति की कमी बहुत खलती है। मैंने उनके कंधे पर अपने हाथ को रखा और उन्हें कहा आप अपने पति की बिल्कुल भी चिंता ना करें मैं आपके साथ हूं। वह कहने लगी क्या वाकई में तुम मेरे साथ हो मैंने उन्हें कहा हां मैं हमेशा आपके साथ हूं। जब यह बात मैंने उन्हें कहीं तो उन्होंने मुझे अपने गले लगाते हुए कहा आज तक यह बात किसी ने मुझे नहीं कहीं। जब उन्होंने मुझे गले लगाया तो मुझे बहुत अच्छा लगने लगा मैं भी उनसे बड़े जोरों से चिपकने लगा मैंने उनको महसूस करने की कोशिश की तो वह भी समझ गई।

मेरे अंदर से जवानी फूटने लगी मैंने उनके स्तनों को दबाना शुरू कर दिया था उन्हें भी कोई आपत्ति नहीं थी। मैं उनके स्तनों को बड़ी तेज गति से दबा रहा था मैंने जब अपने लंड को बाहर निकाला तो उन्होंने मेरे लंड को अपने हाथ में लेते हुए हिलाना शुरू किया और हिलाते हुए अपने मुंह के अंदर ले लिया। उन्होंने मेरे लंड को अपने गले के अंदर तक ले लिया था जब मैंने उनके कपड़े उतारकर उन्हें चोदना शुरू किया तो वह अपने मुंह से चीखने की आवाज निकाल रही थी। उनकी चीख से मुझे बड़ा आनंद आ रहा था वह अपने दोनों पैरों को खोल देती और कहती इतने समय बाद किसी के साथ मैंने सेक्स किया है लेकिन तुम्हारे साथ मुझे सेक्स करके बड़ा अच्छा लगा तुम्हारे लंड में एक अलग ही बात है तुम्हारे अंदर बहुत ही स्टैमिना है। मैंने सरिता मैडम से कहा लेकिन मैडम आपकी चूत आज भी उतनी ही टाइड है वह कहने लगी मैंने तो काफी समय से किसी से अपनी चूत मरवाई नहीं है जब मेरे पति जीवित थे तो उस वक्त हम लोग सेक्स का पूरा मजा उठाते थे लेकिन जब से उनकी मृत्यु हुई है तब से तो मैंने जैसे यह सब अपने दिमाग से निकाल दिया है। हम दोनों ने उस समय सेक्स का भरपूर एंजॉय किया उसके बाद मैं अपने घर चला गया।


Comments are closed.


error:

Online porn video at mobile phone


badmasati comदीदी ने मुझे चोदना माँ के सामने सिखायाmuslm ass comhindi xeschudai xxx hindiantarvasna full hindi storydesi aunty chudai storymami ki chudai train merajasthani sex hindilund ki chutmaa ko choda hindi storiesbhabhi ko din me chodawww bhabhi ki chudai ki storybhanu sexchodai ki kahanipapa tum jab maa ki chudai karta ho to mujhe bahut jalan holi hadehati indian sexland choot mefree gandi kahaninew bhabhi ki chudai ki kahanihindi sexi muvichudai gand kisuhagrat in sexsex stories in marathi languagemarwari sexihindi sex linesaali ki chutमराठी सेक्स इन्सेस्ट आई स्टोरीantarvasna hindi memausi ki chudai ki kahani videosuhagrat ki kahani hindi languagedesi choot me lundमारवाडी चुदाई ओर बोबे sex kahani videopahli chudai comindian group sex storiespapa ne beti ki chudai kimaa beta ki chudai in hindipadosan chudai kahanireal sex story in hindiaunty ki chudai kahani with photonangi bhabhi ki chudai storyXXX KAHANI AMIR SETHANI OR NOKARlund choot lundkaamkatha hindi videohindi suhagrat chudaichoti bachi ko chodasavita bhabhi ki chuchiindiansexkahanisuhagrat hot picmami ki chudai in hindi storyhindi xexland aur chut ka khelnanaji ne chodamarathi zavazavi kahanisambhog katha in hindirandi ki bur ki chudaibihari chudai commaa beta ki chudai hindi storychote bache ki gand maribhai ne mujhe chodabete ne chudai kinew bhai behan chudai storymalkin aur naukarbivi ki gand marihot marathi kahanichudai daunlodjija sali ki sexy storysasur bahu ki kahanibhabhi ki chudai hindi stories onlywww sex bhabhi comindian hindi antarvasnapron story in Hindi Beena chaddi uska lal chutsavita bhabhi free hindi storykajol ki chudaibhabhi ki chudai chutghar me chudai kisexy nokranibhai bahan chudaibhosda photobehan ki chudai sex stories in hindichut dikha desasur ne chut phadididi ki chudai hindidesi sex biharnew kahani chudai kijaja shale sexy kahaniनिँद मे चोदाई कि कहानीwww sex com hindibiwi ki